बरसों बाद

कभी कभी हम यूँ भी किया करते हैं

उसके हिस्से के सवाल भी खुद ही किया करते हैं

फिर देते हैं जवाब खुद ही , खुद को

सुबहों,शामों और रातों में

फिर खामखाँ

खुद की खुद से ही

शिकायत भी किया करते हैं।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s