मंज़िलों की आरज़ू

आज सिर्फ शक़ील आज़मी का ये शेर

अपनी मंज़िल पे पहुंचना भी खड़े रहना भी ,

कितना मुश्किल है बड़े हो के बड़ा रहना भी।

वाक़ई सिर्फ बड़ा बनना जरूरी नही बल्कि उस बड़प्पन को बनाये रख पाना भी एक चुनौती है ।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s