कुंद संवेदनों के हाथ

क्या हो , जो इंकार कर दें

बढ़ने से,

शतरंज के मोहरे,

जिसे बिठाते हो,

चलाते हो,

और कभी

हार भी जाते हो।

बदलने, बढ़ने

छोड़ने की पीड़ा

नहीं पहुँचती

उन दिमागों तक

जिनके हाथ की नसें

जवाब दे चुकी हैं

पीड़ाओं के,

संवहन को।

पर साहब जी !

विनती है एक

ये चौकोर खाने

आपके लिए हैं

खेल की बिसात ,

जिसमे हैं , हार और जीत

चित या पट

पर जी !

बस एक बार

महसूसना कभी

मर जाते हैं जो मुहरे, बेनाम

उनके भी अपने खाने होते हैं

और उस चौकोर चौहद्दी को

लांघना

केवल खेल नहीं होता।

Advertisements

हथेली की छाया

मुझे डर लगता है

कि जमाना है बड़ा ख़राब

इस ओर से भी

उस ओर से भी

बचाने को है

मेरे पिता की

बस एक छोटी सी हथेली

जिसमे बराबर हैं नसीहतें

और थोड़ी डांट भी,

वैसी जिसमें शब्द नहीं होते

सिर्फ होती हैं , थोड़ी त्योरियां

बहकते हर कदम को अपने

रोक लेती हूं मैं

कि मैं जानती हूं

कितनी छोटी है ये दुनिया

और फैलते- फैलते

मेरे पिता का कलेजा

आखिर कितना नाव बनेगा

और पतवार अपनी

थामनी ही होगी

आज या तो कल

पर डर और दहशतें

मजबूत नहीं होने देतीं

अपनी पकड़ , पतवार पर !

आखिर इनकार तो नहीं कर सकती

उस डर से

जो मां के दूध के साथ

घुल जाता है रगों में

हर लड़की के

पर जानती हूं कहीं भीतर

डरना किसी दर्द का इलाज़ नहीं है

बल्कि उसका हल

दहशत के अंत में है।

मल्टीपोलर ट्रुथ

क्या आपने कभी ये महसूस किया है कि जैसे संवादों की एक ऐसी दुनिया में हम जी रहे हैं , जहां सार्थकता – निरर्थकता का ख़याल किये बगैर जोरदार बहसबाज़ी जारी है । कहना हर किसी को है पर समझना किसी को नहीं है ! हम बस लगातार एक बिजली से चलने वाले ट्यूबवेल की तरह पूरी बर्बरता से अपनी कुंठाओं की बौछार किये जा रहे हैं बेलगाम , बेमुरौवत ! बेशक़ अभिव्यक्ति हम सबका हक़ है । हम एक महान लोकतांत्रिक व्यवस्था में जी रहे हैं पर आखिर हम सही ग़लत, सच झूट की बुनियादी समझ को इस तरह दरकिनार तो नहीं कर सकते ! किसी पोस्टमोडरनिस्ट विचारक ने कहा था कि सच भी बहुध्रुवीय हो सकता है , पर उसका असर ऐसा होगा ये शायद उन्होंने भी नहीं सोचा होगा। यहां हर एक का अपना सच है जिसे बड़ी बेशर्मी से वो दूसरे के गले उतरवाना चाहता है , और इसका अंत जाहिर है जीत उसकी होगी जिसके पास सबसे ज्यादा शक्ति होगी। पर जी अपने पूरब में ना बहुत पहले ही तुलसी ने कह रखा है ‘पंडित सोई जो गाल बजावा ‘ आजकल वही वाला हाल है। जो आप तमीज़दार , समझकर बोलनेवाले और तहज़ीब पसंद हैं ,तो इन शार्ट आप पुराने ख़याल के आदमी हैं , खैर ये तो जी अपनी बात रही ,आप किस खेमे में है विचार करें।

आखिर झुण्डबाज़ी इंसान का सबसे पुराना शग़ल है

लीक पर चलना हमेशा आसान होता है , एक लीक पकड़ लो और आपकी ज़िंदगी सेट है भई ! बने बनाये मानदंड और लोगों की भीड़ आपका साथ देने को तैयार मिलती है, जयजयकार और जुलुसबाज़ी cherry on the cake। पर ये जुलूसबाज़ी आख़िर हमें ले कहाँ जाती है?और जुलूस में शामिल हर एक को चाहे तो समवेत रूप में भेड़ कह सकते हैं, क्योंकि चराने वाला तो चरवाहा ही है ना! तो भेड़ों की अपनी समझ बूझ , अपना विवेक तो बस यही साधने में चुक जाता है कि झुंड कौन सा चुनें या फिर की झुंड में सबसे आगे रहें । आखिर झुण्डबाज़ी इंसान का सबसे पुराना शग़ल है।

मुझे पुलवामा मुद्दे पर हम भारतीय बेबस भेड़ों की तरह ही नज़र आ रहे हैं! बेशक़ कुछ युद्ध करवाने को आतुर, तो कुछ युद्ध का विरोध करने को , पर चरवाहे वो परिदृश्य से हमेशा गायब हैं बराबर,दोनों ओर के। पर हमें याद तो रखना ही चाहिए कि युद्ध होने या न होने दोनो के परिणाम हर भेंड़ को बराबर भुगतने होंगे।ख़ैर फिलहाल अपने पुरसुकून कमरे में भी अज्ञेय की ये पंक्तियां बार बार याद आ रही हैं-

“जो पुल बनाएंगे वो अनिवार्यतः पीछे राह जाएंगे

सेनाएं हो जाएंगी पार मारे जाएंगे रावण जयी होंगे राम

जो निर्माता रहे इतिहास में बंदर कहलायेंगे”

यूँ ही

क्षमा शोभती उस भुजंग को, जिसके पास गरल हो- ,अज्ञेय

आज एक सवाल है आप सबसे, रबर की गुलेल बनाई है आपने बचपन में ? क्या मज़ा होता था उसमें , रबर को उंगलियों के बीच तानकर कंकड़ छोड़ देना वाह! बार बार खिंचना, चढ़ना ,छूटना और निढाल पड़ जाना , हमारी सेंसिटिविटी भी ऐसी ही होती है ,आखिर कभी तो उसका लचीलापन टूट सकता है,उसका टूटना रबर की सटाक!की तरह होता है, सामने वाले को बेध डालता है , आखिर उसका मज़ा जो किरकिरा हो जाता है ! भई खेल बिगड़ गया type! तो जी आपके साथ जो कभी हो जाये ऐसा तो बेवज़ह मलाल न करना और सामने वाले को इस सटाक! की चुभन को सहने देना।आज दुआ सिर्फ इसकी कि बार -बार का ये खिंचना, चढ़ना सहने की क़ुव्वत ऊपरवाला हम जैसों को बख्शे आमीन!

हमसफ़र चाहिए हुज़ूम नहीं,इक मुसाफ़िर भी काफ़िला है मुझे

यूँ लगता है जैसे अहमद फराज़ की ये लाइनें हम जैसों के लिए ही लिखी गईं हैं। दिलफेंकों,विदूषकों और उनसे भी न बने तो हिप्पोक्रेट्स को सराहने वाली दुनिया में अग़र आप निहायत ही चुप्पे,शर्मीले और टची हैं तो जी पक्का मान लीजिए आप पार्टियों में कोने की मेज पकड़े एक आतंकित प्राणी होंगे जिसकी नज़र घड़ी के रेंगते हुए कांटों पर होती है कि कमबख्त कब निकलेंगे यहां से! पर जी ऐसी हालत में पकड़े जाने पर लज़ा कर जल्दी निकलने की सफ़ाई देने की कोशिश तो बिल्कुल नहीं करनी चाहिए। बल्कि ऐसे मूढ़मग़ज़ों को उनकी इन बेसिरपैर पार्टियों से बाहर अपनी दुनिया की सैर करानी चाहिए।और जो ऊब जाएं वो तो ठोंक देना चाहिए वही वाला एटीट्यूड बिल्कुल 😤 आज के लिए इतना ज्ञान शायद काफी होगा तब तक ‘नींद बड़ी चीज़ है ,मुँह ढक के सोइये जी !!

कस्तूरी कुंडल बसै , मृग ढूंढे वन माहिं

संसार की सभी क्रांतियों में सबसे अहम क्रांति शायद अपने आप को स्वीकार कर पाना है, अपने अक्खड़पन,अनगढ़पन और तमाम मुलायमियत में और इस अद्वितीयता के आनंद को जी पाना है वर्ना तो पूरी ज़िंदगी एक अनजानी रेस के घोड़े की तरह दौड़ को जीतने की कोशिश में निकल जानी है।

और फिर ऐसा इंसान जो खुद को ही न स्वीकार सके उससे दूसरों को पहचानने की उम्मीद भी कैसे की जा सकती है।आज की शाम इसी उम्मीद में की हम सब जिंदगी की गहमागहमी के बीच अपनी पुरखुलूस रूह को महसूस कर पाएं आमीन!

मंज़िलों की आरज़ू

आज सिर्फ शक़ील आज़मी का ये शेर

अपनी मंज़िल पे पहुंचना भी खड़े रहना भी ,

कितना मुश्किल है बड़े हो के बड़ा रहना भी।

वाक़ई सिर्फ बड़ा बनना जरूरी नही बल्कि उस बड़प्पन को बनाये रख पाना भी एक चुनौती है ।

प्रतिशोध की मानसिकता और हम

गुस्सा और दुख कभी कभी खुद उस इंसान के लिए तकलीफदेह बन जाते हैं जिसके अंदर रहते हैं इसलिए उससे जितनी जल्दी निज़ात पा ली जाए उतना बेहतर है।

कितनी अज़ीब बात है ,हमें यह लगता है कि जो हमारे साथ बुरा कर रहा है हम उसका ऐसा अहित करें कि वो बस खत्म हो जाए पूरी तरह।उसे ऐसी चोट पहुचाएं कि वो बस चित पड़ जाए।

लेकिन यदि ग़ौर करें तो लड़ना ,खत्म करने की प्रक्रिया नही है बल्कि मज़बूत करने की प्रक्रिया है।हम जिससे लड़ते हैं वह उस पल भले ही हार जाए पर हमारे अवचेतन में कही गहरे धंस जाता है , उससे हमारे मानसिक बंधन गहनतम होते जाते हैं,पर वह समाप्त तो नहीं ही होता बल्कि प्रबलतर होकर जन्म लेता है।रक्तबीज की तरह असंख्य, अगणित अनेकानेक रूपों में।

इसलिए अगर कोई नकारात्मक व्यक्ति आपसे जुड़ जाए तो उससे प्रतिशोध की सर्वोत्तम युक्ति अपने मानसिक जगत से उसके अस्तित्व का पूर्णतः विलोपन है , मानसिक वाचिक और व्यवहारिक सभी रूपों में।